उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो

New Love Shayari

उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो!

Uljhee Shaam Ko Paane Ki Zid Na Karo
Jo Na Ho Apna Use Apnaane Ki Zid Na Karo
Is Samandar Mein Toophaan Bahut Aate Hain
Iske Saahil Par Ghar Banaane Ki Zid Na Karo!