भंवर से निकलकर किनारा मिला है

Love Shayari for Life

भंवर से निकलकर ~किनारा मिला है,
जीने को फिर से एक ~सहारा मिला है,
बहुत कशमकश में थी ये ~ज़िंदगी मेरी,
उस ~ज़िंदगी में अब साथ तुम्हारा मिला है।